सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

About us


Hello dear readers, my name is Mukesh Sharma. In my website, www.physicsfanda.co.in gives all kinds of information about physics. My website is http://www.physicsfanda.co.in. All types of information related to physics will be found here. I explain every topic of physics on my website in detail. And physics that provides information from all kinds. Apart from this, I will give important questions for every exam. Lastly, I will pray to God that you always make progress.



                          Thanks                                        
E-Mail -: ms9406871137@gmail.com


                                                          Website -                                                http: //www.physicsfanda.co.in


नमस्कार प्रिय पाठकों 

मेरा नाम मुकेश शर्मा हैं। मे physics के बारे मे बहुत अच्छा नॉलेज रखता हूं, जिसे में अपनी इस वेबसाइट के जरिए आप लोगो तक सेयर करता हू। मेरी वेबसाइट http://www.physicsfanda.co.in है। आपको physics से जुड़ी हर प्रकार की जानकारी यहां मिल जाएगी। 
में अपनी वेबसाइट पर physics के हर टॉपिक को विस्तार से समझाता हूं , तथा हर प्रकार से physics कि जानकारियां प्रदान करता हू । इसके अलावा में हर परीक्षा के लिए important प्रश्न भी बताता हू। 

 अंत मे ईश्वर से यही प्रार्थना करूँगा कि आप खूब पड़े खूब बड़े। 

                         धन्यवाद मित्रों 
Email - : ms9406871137@gmail.com 



टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अनुगमन वेग क्या है? अनुगमन वेग की परिभाषा। विद्युत धारा और अनुगमन वेग में संबंध। मुक्त इलेक्ट्रॉन का अनुगमन वेग। विस्तार से वर्णन

अनुगमन वेग क्या है?
अनुगमन वेग - : "किसी चालक मे इलेक्ट्रॉन विद्युत क्षेत्र के प्रभाव में नियत ओसत वेग से गतिमान होते हैं इसी नियत ओसत वेग को अनुगमन वेग कहते है।"

ज्ञान योग्य बात 👇 रॉकेट क्या है? इसकी खोज किसने और कब की। रॉकेट कैसे बनता है? केसे उड़ता है? ईंधन, संरचना, भारत के प्रमुख रॉकेट और प्रक्षेपण स्थल। रॉकेट नोदन क्या है?

विद्युत धारा और अनुगमन वेग में संबंध।विद्युत धारा ओर अनुगमन वेग मे संबंध - : माना किसी चालक में मुक्त इलेक्ट्रॉन की संख्या n, इलेक्ट्रॉन पर आवेश e, क्षेत्रफल A है।

एक सेकंड में चालक के अनुप्रस्थ परिछेद
से गुजरने वाले इलेक्ट्रॉनो की संख्या =

t सेकंड में चालक के अनुप्रस्थ परिछेद
से गुजरने वाले इलेक्ट्रॉनो की संख्या =


यदि प्रत्येक इलेक्ट्रॉन पर आवेश की मात्रा e हो तो t समय में प्रवाहित कुल आवेश

अतः विद्युत धारा

अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी ओर आपको एक अच्छी मिली तो आप इसे अन्य लोगों से भी शेयर करे इस पोस्ट facebook, whatsapp, सभी जगह शेयर करे ताकी अन्य लोगों को भी जानकारी मिल सके। अगर आपका कोई प्रश्न है तो कमेन्ट में लिखे। आपको इसी तरह की जानकारी मिलती रहे इसक…

विशिष्ट प्रतिरोध क्या है? विशिष्ट प्रतिरोध का मात्रक ओर विशिष्ट प्रतिरोध को प्रभावित करने वाले कारक की विस्तृत जानकारी हिंदी में।

विशिष्ट प्रतिरोध क्या है? विशिष्ट प्रतिरोध किसे कहते है?  हम जानते हैं कि किसी चालक का प्रतिरोध R उसकी लंबाई l तथा क्षेत्रफल A पर निर्भर करता है।प्रतिरोध लंबाई के अनुक्रमानुपाती ओर क्षेत्रफल के व्युत्क्रमानुपाति होता है।  Rl     ओर    ∝ 1/A

                                R ∝ l/A

                               R=p l /A


( जहां p एक नितांक है इसे चालक का विशिष्ट प्रतिरोध कहते हैं ) 


p =  RA / I


विशिष्ट प्रतिरोध का मात्रक। विशिष्ट प्रतिरोध का SI पद्धति में मात्रक 
यह एक अदिश राशि हैं तथा SI पद्धति में मात्रक ohm × m   (ओम ×मीटर )  होता हैं ।
                        यदि A=1   ओर   l=1 हो तो

p=R

इस प्रकार किसी एकांक लंबाई ओर एकांक अनुप्रस्थ परिक्षेद के क्षेत्रफल के चालक के प्रतिरोध को ही विशिष्ट प्रतिरोध कहते हैं। 


ज्ञान योग्य बात 👇 रॉकेट क्या है? इसकी खोज किसने और कब की। रॉकेट कैसे बनता है? केसे उड़ता है? ईंधन, संरचना, भारत के प्रमुख रॉकेट और प्रक्षेपण स्थल। रॉकेट नोदन क्या है?


विशिष्ट प्रतिरोध को प्रभावित करने वाले कारक की जानकारी नीचे दी गई है। 

विशिष्ट प्रतिरोध को प्रभावित करने वाले कारक - :

प्रतिरोध क्या है? प्रतिरोध को प्रभावित करने वाले कारक की पूरी जानकारी SI मात्रक सहित।

प्रतिरोध क्या है? प्रतिरोध किसे कहते हैं? 
प्रतिरोध क्या है - : "जब किसी चालक में विद्युत धारा प्रवाहित की जाती है, तो चालक विद्युत धारा के मार्ग में रुकावट डालता है। इसे चालक का प्रतिरोध कहते है ।"

ज्ञान योग्य बात 👇 रॉकेट क्या है? इसकी खोज किसने और कब की। रॉकेट कैसे बनता है? केसे उड़ता है? ईंधन, संरचना, भारत के प्रमुख रॉकेट और प्रक्षेपण स्थल। रॉकेट नोदन क्या है?

प्रतिरोध = विभवान्तर /धारा 

"किसी चालक पर आरोपित विभवान्तर ओर उसमें प्रवाहित धारा के अनुपात को चालक का प्रतिरोध कहते है। यह एक अदिश राशि है तथा SI पद्धति में इसका मात्रक ओम (ohm) होता है।"

              1000 (ohm) = 1 k (ohm)

           1000000 (ohm) = 1 m (ohm)

          1 (ohm) ओम = 1 वोल्ट / 1 एम्पीयर

जब किसी चालक के सिरों के बीच 1 वोल्ट का विभवान्तर लगाया जाता है ओर उसमे बहाने वाली धारा का मान 1 एम्पीयर हो तो चालक का प्रतिरोध 1(ohm) होता है।                       


प्रतिरोध को प्रभावित करने वाले कारक - 
1.लंबाई पर - : लंबे तार का प्रतिरोध अधिक तथा छोटे तार का प्रतिरोध कम होता है। अर्थात किसी चालक का प्रतिरो…