रॉकेट क्या है? इसकी खोज किसने और कब की। रॉकेट कैसे बनता है? केसे उड़ता है? ईंधन, संरचना, भारत के प्रमुख रॉकेट और प्रक्षेपण स्थल। रॉकेट नोदन क्या है?

रॉकेट क्या है? 

"राॅकेट एक यान हैं, जिसके द्वारा सेटेलाइट और विभिन्न उपकरणों को अंतरिक्ष में भेजा जाता है। यह न्यूटन के गति के तीसरे नियम के सिद्धांत पर कार्य करता है।"

हम दूसरे शब्दों में यह भी कह सकते हैं कि वह यंत्र जिसका प्रयोग अन्तरिक्ष यात्रा हेतु किया जाता है रॉकेट कहलाता है। 


रॉकेट की खोज किसने की। रॉकेट की खोज कब हुई। 

रॉकेट का इतिहास 13वीं सदी से शुरू हुआ सबसे पहले चीन में रॉकेट का आविष्कार हुआ। शुरू में रॉकेट का उपयोग अस्त्र शस्त्र के रूप में किया गया था।  सन 1232 में चीनी और मंगोलो के युद्ध  के बीच रॉकेट का उपयोग हुआ था। 

ऐसा कहा जाता है कि मंगोलो के द्वारा यह टेक्नोलॉजी यूरोप और एशिया के अन्य भागों तक आई। टीपू सुल्तान ने अंग्रेजों के खिलाफ युद्ध के दौरान रॉकेट का प्रयोग किया। जब अंग्रेज भी रॉकेट के बारे मे नहीं जानते थे। युद्ध में अंग्रेजों की हार के बाद उन्होने इस टेक्नोलॉजी को महत्वपूर्ण समझा ओर उन्होने इसका प्रयोग अन्य देशों से युद्ध में किया। 

रॉकेट का सिद्धांत, रॉकेट नोदन किस सिद्धांत पर कार्य करता है? 

रॉकेट नोदन "संवेग संरक्षण नियम" के सिद्धांत पर कार्य करता है।

इस नियम के अनुसार प्रत्येक क्रिया के विपरीत प्रतिक्रिया होती है। अर्थात् जब रॉकेट में प्रयुक्त ईधन को जलाया जाता है तो उसमे से बाहर की ओर गेस निकलती है। जिसके परिणाम स्वरूप रॉकेट के विपरीत एक ऊपर की ओर प्रमोद बल लगता है जिसके कारण रॉकेट ऊपर की ओर उड़ने लगता है। 


रॉकेट की संरचना। 

रॉकेट क्या है? रॉकेट का सिद्धांत। रॉकेट कैसे बनता है? रॉकेट कैसे उड़ता है? रोकेट नोदन, रॉकेट की खोज किसने और कब की। रॉकेट का ईंधन, संरचना, भारत के प्रमुख रॉकेट और प्रक्षेपण स्थल।

रॉकेट 



रॉकेट कैसे बनता है? रॉकेट कैसे उड़ता है? रॉकेट नोदन।

रॉकेट नोदन संवेग संरक्षण नियम पर आधारित है जिसमें दहन कक्ष मे ईधन को जलाया जाता है। जिससे उत्पन्न गैस जैठ नली से तीव्र वेग से बाहर निकलती है अतः इसकी प्रतिक्रिया बल के फलस्वरूप राॅकेट पर प्रणोद लगता है तथा राॅकेट ऊपर की ओर उड़ने लगता है। 



रॉकेट का ईंधन। रॉकेट में किस ईधन का प्रयोग होता है।

"स्पेस शटल में तरल हाइड्रोजन और ठोस प्रोपालेट का उपयोग होता है ठोस प्रोपालेट जलता है पर विस्फोट नहीं होता है। "

रॉकेट में ऎसे ईधन का प्रयोग करना चाहिए जो विस्फोट न हो। ओर जिसको जलाने से तीव्र वेग से ऊर्जा निकले जिससे रॉकेट को उड़ने में आसानी हो। 


भारत के प्रमुख रॉकेट। top rocket in india in hindi।

(1) अग्नि 6
(2) अग्नि 5
(3) अग्नि 4
(4) k 5
(5)k 4



भारत के प्रमुख रॉकेट प्रक्षेपण स्थल। top rocket lonch place in india in hindi।

(1) थुम्बा इक्वेटोरियल राॅकेट लॉन्चिंग स्टेशन। 
(2) सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र। 
(3) सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र तृतीय लॉन्च पैड।  
(4) सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र द्वितीय लॉन्च पैड। 
(5) सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र प्रथम लॉन्च पैड। 

अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी ओर आपको एक अच्छी मिली तो आप इसे अन्य लोगों से भी शेयर करे इस पोस्ट facebook, whatsapp, सभी जगह शेयर करे ताकी अन्य लोगों को भी जानकारी मिल सके। अगर आपका कोई प्रश्न है तो कमेन्ट में लिखे। आपको इसी तरह की जानकारी मिलती रहे इसके लिए हमे सबसे ऊपर तीन लाइन दिख रही होगी उस पर क्लिक करने के बाद हमे फॉलो करे। आपका बहुमूल्य समय देने के लिए धन्यवाद। खूब पड़े खूब बड़े। 

अगर आप जानना चाहते हैं कि स्टडी केसे करे, कोनसी बुक खरीदे पूरी तरह मुफ्त ओर हर परिक्षा के नए - नए अपडेट ओर बहुत सी जानकारी तो आप हमारे facebook page को फॉलो करे। 
हमारे facebook page को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें 👇
             click here



Loading...




Loading...
रॉकेट क्या है? इसकी खोज किसने और कब की। रॉकेट कैसे बनता है? केसे उड़ता है? ईंधन, संरचना, भारत के प्रमुख रॉकेट और प्रक्षेपण स्थल। रॉकेट नोदन क्या है? रॉकेट क्या है? इसकी खोज किसने और कब की। रॉकेट कैसे बनता है? केसे उड़ता है? ईंधन, संरचना, भारत के प्रमुख रॉकेट और प्रक्षेपण स्थल। रॉकेट नोदन क्या है? Reviewed by mukesh sharma on जनवरी 18, 2019 Rating: 5

13 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. इसी तरह की जानकारी के लिए हमारे साथ जुड़े रहे

      मे आशा करता हूँ कि आपको विभिन्न जानकारी मिलती रहेगी

      हटाएं
  3. Sir aap bahut achchi jankari dete he. Me 1 sal se aapko follow kar rha hun.

    जवाब देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  5. aap ne article bahot hi badhiya likha hai keep up the good work. AAp ko apne site ka arrangement change karna hoga bhai jis me 1. template 2. main/default navigation menu 3. sub- menu aur sub category menu 4. home page ko bhi design karna hoga 5. aapne jo ads lagaye hai unki size ko template ke hisab se chota ya bada rakho. for more information visit free SEO For Blogger

    जवाब देंहटाएं
  6. Bahot acha likha hai sir aapne aur bhi acha ho sakta hai agar aap apne blog ke visitor ke tour pr dekhe aur apne article ke andar jo aap ne do paragraph ke andar spacing thodi kaam karde. aur ads ko aur thoda optimize kar ke lagaye to aap ko isse aur jyada acha users ki aur se result milega. regards ( http://freeseoforblogger.blogspot.com)

    जवाब देंहटाएं


Blogger द्वारा संचालित.