सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

घर्षण क्या है? इसके प्रकार ओर लाभ हानि। स्थेतिक, सीमान्त, गतिक, सर्पी और लोटनिक (बेलन) घर्षण क्या है? गतिक घर्षण के प्रकार। सर्पी और लोटनिक (बेलन) घर्षण में अन्तर। विराम कोण और घर्षण कोण क्या है?

घर्षण क्या है? 

"जब किसी वस्तु को किसी दूसरी वस्तु पर चलाया जाता है या चलाने का प्रयास किया जाता है, तो उन दोनों वस्तुओं के तलों या पृष्ठ के मध्य एक बल कार्य करता है। जिसे घर्षण बल कहते हैं। "

दूसरे शब्दों में हम यह भी कह सकते हैं कि जब एक वस्तु किसी दूसरी वस्तु की सतह पर गति करेगी तो उन दोनों वस्तुओं के मध्य एक बल कार्य करेगा जिसे घर्षण कहते हैं।



घर्षण के प्रकार। 

घर्षण दो प्रकार के होते हैं - :

(1) स्थेतिक घर्षण।
(2) गतिक घर्षण ।

स्थेतिक घर्षण क्या है? 

" जब किसी वस्तु को किसी दूसरी वस्तु पर रखकर उसमें बल लगाया जाता है किंतु वह वस्तु अपने मूल स्थान से विस्थापित नहीं होती है। इसे स्थैतिक घर्षण कहते हैं। "

या यू कहे कि जब किसी वस्तु पर बाह्य बल लगाने पर भी वह स्थिर रहती उसके स्थान से कुछ भी विस्थापित नहीं होता स्थैतिक घर्षण  कहते हैं। 

गतिक घर्षण क्या है? 

"दो संपर्क तलो के मध्य सापेक्ष गति उत्पन्न होने के पश्चात कार्य करने वाले घर्षण को गतिक घर्षण कहते हैं।"

जब तक कोई वस्तु पर बल लगाया जाए ओर वस्तु अपने स्थान से विस्थापित ना हो तो वह स्थेतिक घर्षण होता है। जेसे ही वस्तु अपनी गति की अवस्था में आती है तो उसमे जो घर्षण बल कार्य करता है उसे गतिक घर्षण कहते हैं।


सीमान्त घर्षण क्या है? 

" जब कोई वस्तु स्थैतिक घर्षण के अंतिम चरम सीमा पर पहुंचकर अपने मूल स्थान से हटने ही वाली होती है तो उसे सीमांत घर्षण कहते हैं।" 

इसे हम यू समझे कि जब वस्तु विराम अवस्था से गति अवस्था की ओर बढ़ती है ओर स्थेतिक घर्षण समाप्त होने की सीमा पर होता है तो उसे सीमांत घर्षण कहते हैं। 


गतिक घर्षण के प्रकार। 


गतिक घर्षण दो प्रकार के होते हैं - :

(1) सर्पी घर्षण । (2) लोटनिक (बेलन) घर्षण।

सर्पी घर्षण क्या है? 

" जब एक पिंड किसी दूसरे पिंड के पृष्ठ पर फिसलता है तो दोनों के संपर्क तलों के मध्य कार्य करने वाला घर्षण सर्पी घर्षण कहलाता है। "

इसमें वस्तु का केवल वही पृष्ठ तल के संपर्क में आता है। जिसके द्वारा फिसलने की क्रिया हुई हो।

सर्पी घर्षण का उदाहरण 

(1) डस्टर द्वारा मेज पर फिसलना।
(2) बच्चे का स्लाइड पर फिसलने की क्रिया।

लोटनिक (बेलन) क्या है? 

"जब एक पिंड किसी दूसरे पिंड पर लुढ़कता है तो दोनों के संपर्क तलों के मध्य कार्य करने वाले घर्षण को बेलन घर्षण  (लोटनिक) कहते हैं।" 

इसमे वस्तु का लगभग सभी पृष्ठ तल के संपर्क में आता है। क्योकि वस्तु द्वारा लोटनिक क्रिया की जाती है। 

बेलन घर्षण  (लोटनिक) के उदाहरण 

(1) किसी गिलास का किसी पृष्ठ पर लुढ़कना।
(2) मनुष्य का जमीन पर लोटना।


सर्पी और लोटनिक (बेलन) घर्षण में अन्तर।

(1) " जब एक पिंड किसी दूसरे पिंड के पृष्ठ पर फिसलता है तो दोनों के संपर्क तलों के मध्य कार्य करने वाला घर्षण सर्पी घर्षण कहलाता है। "

"जब एक पिंड किसी दूसरे पिंड पर लुढ़कता है तो दोनों के संपर्क तलों के मध्य कार्य करने वाले घर्षण को बेलन घर्षण  (लोटनिक) कहते हैं।" 

(2) सर्पी घर्षण का मान अधिक होता है। 

बेलन घर्षण का मान कम होता है।  

(3) फिसलने वाले पिंड का वही तल सदैव दूसरे पिंड के संपर्क में होता है।  

घूमने वाले पिंड के विभिन्न भाग संपर्क में क्रमश आते हैं। 



विराम कोण क्या है? 

" जब कोई पिंड किसी नत समतल पर सीमांत संतुलन में हो तो नत समतल का क्षेतिज से झुकाव विराम कोण कहलाता है। "


घर्षण कोण क्या है? 

"सीमांत घर्षण और अभिलंब प्रतिक्रिया का परिणामी,  अभिलंब प्रतिक्रिया के साथ जो कोण बनाता है उसे घर्षण कोण कहते हैं।" 


घर्षण से लाभ। 

(1) घर्षण के कारण ही हम भोजन चबा पाते हैं। 

(2) घर्षण से ही हम आग उत्पन्न करते हैं। 

(3) घर्षण द्वारा ही हम पृथ्वी पर चल पाते हैं। 

(4) घर्षण द्वारा ही हमारे वाहन सड़कों पर दौड़ पाते हैं ।

(5) घर्षण द्वारा ही हम रस्सी बना पाते हैं तथा रस्सी से सामान को बांध पाते हैं। 


घर्षण से हानिया। 

(1) घर्षण के कारण मशीन के कल पुर्जे घिसते हैं। 

(2) घर्षण के कारण मशीन की दक्षता कम होती है। 

(3) घर्षण के कारण मशीनों को दी गई ऊर्जा का कुछ भाग ऊष्मा में परिवर्तित हो जाता है जिससे उर्जा की हानि होती है। 

अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी ओर आपको एक अच्छी मिली तो आप इसे अन्य लोगों से भी शेयर करे इस पोस्ट facebook, whatsapp, सभी जगह शेयर करे ताकी अन्य लोगों को भी जानकारी मिल सके। अगर आपका कोई प्रश्न है तो कमेन्ट में लिखे। आपको इसी तरह की जानकारी मिलती रहे इसके लिए हमे सबसे ऊपर तीन लाइन दिख रही होगी उस पर क्लिक करने के बाद हमे फॉलो करे। आपका बहुमूल्य समय देने के लिए धन्यवाद। खूब पड़े खूब बड़े। 

अगर आप जानना चाहते हैं कि स्टडी केसे करे, कोनसी बुक खरीदे पूरी तरह मुफ्त ओर हर परिक्षा के नए - नए अपडेट ओर बहुत सी जानकारी तो आप हमारे facebook page को फॉलो करे। 
हमारे facebook page को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें 👇
             click here


Loading...




Loading...

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अनुगमन वेग क्या है? अनुगमन वेग की परिभाषा। विद्युत धारा और अनुगमन वेग में संबंध। मुक्त इलेक्ट्रॉन का अनुगमन वेग। विस्तार से वर्णन

अनुगमन वेग क्या है?
अनुगमन वेग - : "किसी चालक मे इलेक्ट्रॉन विद्युत क्षेत्र के प्रभाव में नियत ओसत वेग से गतिमान होते हैं इसी नियत ओसत वेग को अनुगमन वेग कहते है।"

ज्ञान योग्य बात 👇 रॉकेट क्या है? इसकी खोज किसने और कब की। रॉकेट कैसे बनता है? केसे उड़ता है? ईंधन, संरचना, भारत के प्रमुख रॉकेट और प्रक्षेपण स्थल। रॉकेट नोदन क्या है?

विद्युत धारा और अनुगमन वेग में संबंध।विद्युत धारा ओर अनुगमन वेग मे संबंध - : माना किसी चालक में मुक्त इलेक्ट्रॉन की संख्या n, इलेक्ट्रॉन पर आवेश e, क्षेत्रफल A है।

एक सेकंड में चालक के अनुप्रस्थ परिछेद
से गुजरने वाले इलेक्ट्रॉनो की संख्या =

t सेकंड में चालक के अनुप्रस्थ परिछेद
से गुजरने वाले इलेक्ट्रॉनो की संख्या =


यदि प्रत्येक इलेक्ट्रॉन पर आवेश की मात्रा e हो तो t समय में प्रवाहित कुल आवेश

अतः विद्युत धारा

अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी ओर आपको एक अच्छी मिली तो आप इसे अन्य लोगों से भी शेयर करे इस पोस्ट facebook, whatsapp, सभी जगह शेयर करे ताकी अन्य लोगों को भी जानकारी मिल सके। अगर आपका कोई प्रश्न है तो कमेन्ट में लिखे। आपको इसी तरह की जानकारी मिलती रहे इसक…

विशिष्ट प्रतिरोध क्या है? विशिष्ट प्रतिरोध का मात्रक ओर विशिष्ट प्रतिरोध को प्रभावित करने वाले कारक की विस्तृत जानकारी हिंदी में।

विशिष्ट प्रतिरोध क्या है? विशिष्ट प्रतिरोध किसे कहते है?  हम जानते हैं कि किसी चालक का प्रतिरोध R उसकी लंबाई l तथा क्षेत्रफल A पर निर्भर करता है।प्रतिरोध लंबाई के अनुक्रमानुपाती ओर क्षेत्रफल के व्युत्क्रमानुपाति होता है।  Rl     ओर    ∝ 1/A

                                R ∝ l/A

                               R=p l /A


( जहां p एक नितांक है इसे चालक का विशिष्ट प्रतिरोध कहते हैं ) 


p =  RA / I


विशिष्ट प्रतिरोध का मात्रक। विशिष्ट प्रतिरोध का SI पद्धति में मात्रक 
यह एक अदिश राशि हैं तथा SI पद्धति में मात्रक ohm × m   (ओम ×मीटर )  होता हैं ।
                        यदि A=1   ओर   l=1 हो तो

p=R

इस प्रकार किसी एकांक लंबाई ओर एकांक अनुप्रस्थ परिक्षेद के क्षेत्रफल के चालक के प्रतिरोध को ही विशिष्ट प्रतिरोध कहते हैं। 


ज्ञान योग्य बात 👇 रॉकेट क्या है? इसकी खोज किसने और कब की। रॉकेट कैसे बनता है? केसे उड़ता है? ईंधन, संरचना, भारत के प्रमुख रॉकेट और प्रक्षेपण स्थल। रॉकेट नोदन क्या है?


विशिष्ट प्रतिरोध को प्रभावित करने वाले कारक की जानकारी नीचे दी गई है। 

विशिष्ट प्रतिरोध को प्रभावित करने वाले कारक - :

प्रतिरोध क्या है? प्रतिरोध को प्रभावित करने वाले कारक की पूरी जानकारी SI मात्रक सहित।

प्रतिरोध क्या है? प्रतिरोध किसे कहते हैं? 
प्रतिरोध क्या है - : "जब किसी चालक में विद्युत धारा प्रवाहित की जाती है, तो चालक विद्युत धारा के मार्ग में रुकावट डालता है। इसे चालक का प्रतिरोध कहते है ।"

ज्ञान योग्य बात 👇 रॉकेट क्या है? इसकी खोज किसने और कब की। रॉकेट कैसे बनता है? केसे उड़ता है? ईंधन, संरचना, भारत के प्रमुख रॉकेट और प्रक्षेपण स्थल। रॉकेट नोदन क्या है?

प्रतिरोध = विभवान्तर /धारा 

"किसी चालक पर आरोपित विभवान्तर ओर उसमें प्रवाहित धारा के अनुपात को चालक का प्रतिरोध कहते है। यह एक अदिश राशि है तथा SI पद्धति में इसका मात्रक ओम (ohm) होता है।"

              1000 (ohm) = 1 k (ohm)

           1000000 (ohm) = 1 m (ohm)

          1 (ohm) ओम = 1 वोल्ट / 1 एम्पीयर

जब किसी चालक के सिरों के बीच 1 वोल्ट का विभवान्तर लगाया जाता है ओर उसमे बहाने वाली धारा का मान 1 एम्पीयर हो तो चालक का प्रतिरोध 1(ohm) होता है।                       


प्रतिरोध को प्रभावित करने वाले कारक - 
1.लंबाई पर - : लंबे तार का प्रतिरोध अधिक तथा छोटे तार का प्रतिरोध कम होता है। अर्थात किसी चालक का प्रतिरो…