सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

अगस्त, 2018 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

मात्रक क्या है? इसके प्रकार ओर गुण। मूल ओर व्युत्पन्न मात्रक क्या है? मात्रक की पद्धति पद्धतियां बताइए।

मात्रक क्या है?  "किसी भौतिक राशि को मापने के लिए निर्देश मानक को उस भौतिक राशि का मात्रक कहते हैं।"
मात्रक के प्रकार  मात्रक दो प्रकार के होते हैं - : (1) मूल मात्रक  (2) व्युत्पन्न मात्रक


ज्ञान योग्य बात 👇 रॉकेट क्या है? इसकी खोज किसने और कब की। रॉकेट कैसे बनता है? केसे उड़ता है? ईंधन, संरचना, भारत के प्रमुख रॉकेट और प्रक्षेपण स्थल। रॉकेट नोदन क्या है?

मूल मात्रक क्या है?  " मूल राशियों के मात्रको को मूल मात्रक कहते हैं।"                                          यह एक दूसरे से पूर्णतः  स्वतंत्र होते हैं। SI पद्धति में सात मूल मात्रक और दो पूरक मूल मात्रक होते हैं।
व्युत्पन्न मात्रक क्या है?  " व्युत्पन्न राशियों के मात्रक को व्युत्पन्न मात्रक कहते हैं।"                  यह मात्रक मूल मात्रक पर निर्भर करते हैं। व्युत्पन्न मात्रकों की संख्या सीमित नहीं है। 
मात्रक के गुण  मात्रक के गुण निम्नलिखित हैं - : (1) मात्रकों का परिणाम ऐसा होना चाहिए कि, राशि का संख्याक सामान्यतः ना बहुत बड़ा हो और ना बहुत छोटा।  (2) वह पूर्णतः स्पष्ट और निश्चित रूप से परिभाषित हो। (3) …

भौतिकी(physics) क्या है? इसके प्रकार, भौतिकी (physics) का अन्य शाखाओं से संबंध। वैज्ञानिक विधि क्या है? वैज्ञानिक विधि के मुख्य चरण। what is physics? विस्तृत जानकारी

भौतिकी क्या है? physics kya he? what is physics? 
"भौतिकी विज्ञान की वह शाखा है जिसके अंतर्गत द्रव्य, ऊर्जा और उनकी अंतक्रियाओं का अध्ययन किया जाता है। "
ज्ञान योग्य बात 👇 रॉकेट क्या है? इसकी खोज किसने और कब की। रॉकेट कैसे बनता है? केसे उड़ता है? ईंधन, संरचना, भारत के प्रमुख रॉकेट और प्रक्षेपण स्थल। रॉकेट नोदन क्या है?

भौतिकी (physics) के प्रकार ।चिरसम्मत भौतिकी(1) चिरसम्मत भौतिकी - : "सन 1980 के पूर्व ज्ञान से युक्त भौतिकी को चिरसम्मत भौतिकी कहते हैं। "
आधुनिक भौतिकी (2) आधुनिक भौतिकी- : "सन 1980 के बाद की भौतिकी को आधुनिक भौतिकी कहते हैं। "
वैज्ञानिक विधि क्या है?   "अनुसंधान कार्यों को करने के लिए वैज्ञानिकों द्वारा अपनाई गई क्रमबद्ध, तर्कशील और सुव्यवस्थित विधि को वैज्ञानिक विधि कहते हैं। "
वैज्ञानिक विधि के कितने चरण होते हैं?   वैज्ञानिक विधि के चार चरण होते हैं।  (1) क्रमबद्ध प्रेक्षण (2) परिकल्पनाओं का निर्माण (3) परिकल्पना का परीक्षण (4) प्रयोग एवं अंतिम निष्कर्ष
भौतिकी(physics)  का अन्य शाखाओं से संबंध।  (1) भौतिकी (physics) का गणित से संबंध।…

विद्युत वाहक बल क्या है? विद्युत वाहक बल का SI मात्रक। टर्मिनल विभवांतर क्या है? सभी की विस्तृत जानकारी

विद्युत वाहक बल क्या है?
विद्युत वाहक बल - : "किसी एकांक धनावेश को पूरे परिपथ में चलाने में किया गया कार्य या व्यय हुई ऊर्जा को सेल का विद्युत वाहक बल कहते हैं। "
या
जब  सेल खुले परिपथ में होता है तो उस के सिरे के बीच अधिकतम विभवांतर को सेल का विद्युत वाहक बल कहते हैं।

ज्ञान योग्य बात 👇 रॉकेट क्या है? इसकी खोज किसने और कब की। रॉकेट कैसे बनता है? केसे उड़ता है? ईंधन, संरचना, भारत के प्रमुख रॉकेट और प्रक्षेपण स्थल। रॉकेट नोदन क्या है?

विद्युत वाहक बल का मात्रक। विद्युत वाहक बल का SI मात्रक। SI पद्धति में विद्युत वाहक बल का मात्रक वोल्ट है। 

टर्मिनल विभवांतर क्या है? टर्मिनल विभवांतर - : "जब सेल बंद परिपथ में होता है  तो, उसके सिरों के मध्य अधिकतम विभवांतर को सेल का टर्मिनल विभवांतर कहते हैं। "

अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी ओर आपको एक अच्छी मिली तो आप इसे अन्य लोगों से भी शेयर करे इस पोस्ट facebook, whatsapp, सभी जगह शेयर करे ताकी अन्य लोगों को भी जानकारी मिल सके। अगर आपका कोई प्रश्न है तो कमेन्ट में लिखे। आपको इसी तरह की जानकारी मिलती रहे इसके लिए हमे सबसे ऊपर तीन लाइन दिख रही…

ध्रुवण दोष क्या है? स्थानीय क्रिया का दोष क्या है? ध्रुवण दोष ओर स्थानीय क्रिया के दोष को दूर करने के उपाय की विस्तार से जानकारी हिंदी में।

ध्रुवण दोष क्या है? ध्रुवण दोष - : "जब सरल वोल्टीय सेल में हाइड्रोजन गैस तांबे की छड़ के पास मुक्त होती है तो, छड़ पर कुचालक परत बना लेती है।  जिससे आने वाले आयन  छड़ को अपना आवेश नहीं दे पाते तथा वहां एकत्र हो जाते हैं। तथा एक दूसरे को प्रतिकर्षित करते हैं तथा जस्ते की छड़ की ओर चलने लगते हैं तो सेल में एक विपरीत विद्युत वाहक बल उत्पन्न होता है। जो सेल के मुख्य विद्युत वाहक बल को कम कर देता है इसे ध्रुवण दोष  कहते हैं। "

ज्ञान योग्य बात 👇 रॉकेट क्या है? इसकी खोज किसने और कब की। रॉकेट कैसे बनता है? केसे उड़ता है? ईंधन, संरचना, भारत के प्रमुख रॉकेट और प्रक्षेपण स्थल। रॉकेट नोदन क्या है?
ध्रुवण दोष को दूर करने के उपाय।  (1) ध्रुवण दोष को दूर करने की यांत्रिक विधि।  इस विधि में तांबे की छड़ को विलियन से बाहर निकालकर थोड़ी थोड़ी देर में दातेदार ब्रश से रगड़ते जाते हैं और परत हटा दी जाती है।

(2) ध्रुवण दोष को दूर करने की  रासायनिक विधि। 
इस विधि में ऑक्सीकारक पदार्थों का चूर्ण तांबे की छड़ के पास डालते हैं यह चूर्ण हाइड्रोजन का ऑक्सीकरण कर देता है और ध्रुवण दोष दूर हो जाता है। 
(3) ध्…

विद्युत शक्ति क्या है? विद्युत शक्ति का SI मात्रक, विस्तृत जानकारी

विद्युत शक्ति क्या है?  विद्युत शक्ति - : "किसी परिपथ में विद्युत ऊर्जा व्यय होने की दर को विद्युत शक्ति कहते हैं।"


इसे p से व्यक्त करते हैं।
P = w / t                                                  (चुकी w = vQ)  p =  vQ / t                                                 (चुकी I = Q/t)  p = vIt / t                                                 (चुकी It = Q)  p = vI
विद्युत शक्ति =  विभवान्तर × धारा


ज्ञान योग्य बात 👇 रॉकेट क्या है? इसकी खोज किसने और कब की। रॉकेट कैसे बनता है? केसे उड़ता है? ईंधन, संरचना, भारत के प्रमुख रॉकेट और प्रक्षेपण स्थल। रॉकेट नोदन क्या है?

विद्युत शक्ति का मात्रक क्या है?  SI  पद्धति में विद्युत शक्ति का मात्रक वाट होता है। 
1000  वाट  =  1  किलोवाट 
740 वाट  =  1 किलोवाट 


ज्ञान योग्य बात 👇 रॉकेट क्या है? इसकी खोज किसने और कब की। रॉकेट कैसे बनता है? केसे उड़ता है? ईंधन, संरचना, भारत के प्रमुख रॉकेट और प्रक्षेपण स्थल। रॉकेट नोदन क्या है?

अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी ओर आपको एक अच्छी मिली तो आप इसे अन्य लोगों से भी शेयर करे इस पोस्ट facebook, whatsapp, सभी …

धारा का उष्मीय प्रभाव क्या है? धारा के उष्मीय प्रभाव से संबंधित जूल का प्रथम, द्वितीय ओर तृतीय नियम लिखिए। संपूर्ण जानकारी

धारा का उष्मीय प्रभाव क्या है? धारा का ऊष्मीय प्रभाव - : "जब किसी चालक तार में विद्युत धारा प्रवाहित की जाती है तो वह तार गर्म हो जाता है इसे धारा का उष्मीय प्रभाव कहते हैं। "

                                          वास्तव में जब किसी चालक तार के सिरों के बीच विभवांतर लगाया जाता है। तो इलेक्ट्रॉन क्षेत्र की विपरीत दिशा में त्वरित होकर गति करने लगते हैं, तथा रास्ते में आने वाले परमाणुओं और धन आयनो से टकराते हैं तथा ऊर्जा खोते हैं इसकी पूर्ति स्त्रोत द्वारा की जाती है यह खोई हुई ऊर्जा ऊष्मा के रूप में प्रकट होती है अर्थात स्त्रोत द्वारा किया गया कार्य उत्पन्न ऊष्मा के बराबर होता है।

ज्ञान योग्य बात 👇 रॉकेट क्या है? इसकी खोज किसने और कब की। रॉकेट कैसे बनता है? केसे उड़ता है? ईंधन, संरचना, भारत के प्रमुख रॉकेट और प्रक्षेपण स्थल। रॉकेट नोदन क्या है?

स्त्रोत द्वारा किया गया कार्य

कार्य  = विभव × आवेश
                                              ( चुकी  I = Q / t)
w = VQ                                 ( It  = Q)

w = VIt                                   (चुकी   R = V/I)
w = VRIt …

ताप प्रतिरोधक या थर्मीस्टर क्या है? ताप प्रतिरोधक या थर्मीस्टर के उपयोग। पूर्ण जानकारी

ताप प्रतिरोधक या थर्मिस्टर क्या है?  ताप प्रतिरोधक या थर्मीस्टर - : ताप प्रतिरोधक या थर्मीस्टर अर्धचालकों से बनी एक ऐसी युक्ति है जिसका ताप बढ़ाने से प्रतिरोध तेजी से घटता है।


ज्ञान योग्य बात 👇 रॉकेट क्या है? इसकी खोज किसने और कब की। रॉकेट कैसे बनता है? केसे उड़ता है? ईंधन, संरचना, भारत के प्रमुख रॉकेट और प्रक्षेपण स्थल। रॉकेट नोदन क्या है?


ताप प्रतिरोधक या थर्मिस्टर के उपयोग।  ताप प्रतिरोधक या थर्मीस्टर के उपयोग - :  (1)  जब किसी प्रतिरोध का ताप बडने पर प्रतिरोध बढ़ता है। थर्मिस्टर को उस परिपथ के साथ श्रेणी क्रम में जोड़ देते हैं यह परिपथ के प्रतिरोध को घटा देता है और संतुलन की स्थिति बन जाती है। 

(2)  टेलीविजन अभीग्राही,  वोल्टता नियंत्रक,  टाईम रिलेस्विच में।

ज्ञान योग्य बात 👇 रॉकेट क्या है? इसकी खोज किसने और कब की। रॉकेट कैसे बनता है? केसे उड़ता है? ईंधन, संरचना, भारत के प्रमुख रॉकेट और प्रक्षेपण स्थल। रॉकेट नोदन क्या है?

इन्हें भी पड़े - :
Loading... प्रतिरोध क्या है? प्रतिरोध को प्रभावित करने वाले कारक की पूरी जानकारी SI मात्रक सहित।

विशिष्ट प्रतिरोध क्या है? विशिष्ट प्रतिरोध का मात…

अनुगमन वेग क्या है? अनुगमन वेग की परिभाषा। विद्युत धारा और अनुगमन वेग में संबंध। मुक्त इलेक्ट्रॉन का अनुगमन वेग। विस्तार से वर्णन

अनुगमन वेग क्या है?
अनुगमन वेग - : "किसी चालक मे इलेक्ट्रॉन विद्युत क्षेत्र के प्रभाव में नियत ओसत वेग से गतिमान होते हैं इसी नियत ओसत वेग को अनुगमन वेग कहते है।"

ज्ञान योग्य बात 👇 रॉकेट क्या है? इसकी खोज किसने और कब की। रॉकेट कैसे बनता है? केसे उड़ता है? ईंधन, संरचना, भारत के प्रमुख रॉकेट और प्रक्षेपण स्थल। रॉकेट नोदन क्या है?

विद्युत धारा और अनुगमन वेग में संबंध।विद्युत धारा ओर अनुगमन वेग मे संबंध - : माना किसी चालक में मुक्त इलेक्ट्रॉन की संख्या n, इलेक्ट्रॉन पर आवेश e, क्षेत्रफल A है।

एक सेकंड में चालक के अनुप्रस्थ परिछेद
से गुजरने वाले इलेक्ट्रॉनो की संख्या =

t सेकंड में चालक के अनुप्रस्थ परिछेद
से गुजरने वाले इलेक्ट्रॉनो की संख्या =


यदि प्रत्येक इलेक्ट्रॉन पर आवेश की मात्रा e हो तो t समय में प्रवाहित कुल आवेश

अतः विद्युत धारा

अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी ओर आपको एक अच्छी मिली तो आप इसे अन्य लोगों से भी शेयर करे इस पोस्ट facebook, whatsapp, सभी जगह शेयर करे ताकी अन्य लोगों को भी जानकारी मिल सके। अगर आपका कोई प्रश्न है तो कमेन्ट में लिखे। आपको इसी तरह की जानकारी मिलती रहे इसक…

विद्युत क्षेत्र क्या है? विद्युत क्षेत्र की तीव्रता क्या है? विद्युत क्षेत्र की तीव्रता का SI मात्रक व C.G.S मात्रक । विद्युत क्षेत्र की तीव्रता का विमीय सूत्र। महत्वपूर्ण जानकारी

विद्युत क्षेत्र क्या है? विद्युत क्षेत्र - : "किसी आवेश के आस - पास का वह क्षेत्र,  जहां तक उसका प्रभाव होता है, विद्युत क्षेत्र कहलाता है। "

विद्युत क्षेत्र किसी आवेश का आकाशीय  गुण होता है। किसी आवेश के विद्युत क्षेत्र में ही दूसरा आवेश कूलाम बल का अनुभव करता है। वह आवेश जो विद्युत क्षेत्र उत्पन्न करता है स्त्रोत आवेश कहलाता है तथा स्त्रोत आवेश से उत्पन्न क्षेत्र के प्रभाव का परीक्षण करने वाले आवेश को परीक्षण आवेश कहते हैं।


ज्ञान योग्य बात 👇 रॉकेट क्या है? इसकी खोज किसने और कब की। रॉकेट कैसे बनता है? केसे उड़ता है? ईंधन, संरचना, भारत के प्रमुख रॉकेट और प्रक्षेपण स्थल। रॉकेट नोदन क्या है?

विद्युत क्षेत्र की तीव्रता क्या है?  विद्युत क्षेत्र की तीव्रता - : " विद्युत क्षेत्र के किसी बिंदु पर स्थित एकांक धनावेश जितने बल का अनुभव करता है उसे उस बिंदु पर विद्युत क्षेत्र की तीव्रता कहते हैं। "                                           यह एक सदिश राशि है। इसकी दिशा वह होती है जिसमें एकांक धनावेश पर बल लगता है।               यह विद्युत क्षेत्र के किसी बिंदु पर रखे परीक्षण धना…

ठोस क्या है? ठोस कितने प्रकार के होते हैं? क्रिस्टलीय और अक्रिस्टलीय ठोस क्या है? क्रिस्टलीय ओर अक्रिस्टलीय ठोस में अंतर। विशेष वर्णन

ठोस क्या है? ठोस - : "ऐसे पदार्थ जिनका आकार और आयतन निश्चित होता है ठोस कहलाते हैं। "

             ठोसों के अवयवी कण (परमाणु अणु और आयन)  गति करने के लिए स्वतंत्र नहीं होते, किंतु अवयवी कणों के मध्य लगने वाले प्रबल आकर्षण बल के कारण वे अपने निश्चित स्थान पर दोलन (केवल कंपन) कर सकते हैं। इस तरह ठोसो के मुख्य अभिलक्षण असंपीड्यता, द्रणता एवं उच्च यांत्रिकीय सामर्थ्य। यह दर्शाते हैं कि ठोसो को बनाने वाले अवयवी कण परमाणु,  अणु और आयन आपस में घनिष्ठ संकुलित होते हैं।


ज्ञान योग्य बात 👇 रॉकेट क्या है? इसकी खोज किसने और कब की। रॉकेट कैसे बनता है? केसे उड़ता है? ईंधन, संरचना, भारत के प्रमुख रॉकेट और प्रक्षेपण स्थल। रॉकेट नोदन क्या है?

ठोस के प्रकार लिखें।  ठोस के प्रकार - :ठोस दो प्रकार के होते हैं - :
(1) क्रिस्टलीय ठोस  (2) अक्रिस्टलीय ठोस  क्रिस्टलीय ठोस क्या है? क्रिस्टलीय ठोस - : इन ठोसो में अवयवी कणों (परमाणु, अणु और आयन)  की एक निश्चित नियमित ज्यामितीय व्यवस्था होती है, जिसकी बार-बार पुनरावृत्ति होने पर एक निश्चित ज्यामिति वाली त्रिविमीय संरचना का निर्माण होता है। हम कह सकते हैं …